मंगलवार, 6 अप्रैल 2010

जल्द मैदान बनाने की कला सीखी

पायका के लिए क्रीड़ाश्री को दिए जा रहे प्रशिक्षण शिविर के तीसरे चरण आए क्रीड़ाश्री को आज मैदान को जल्द बनाने की कला सिखाई गई। इसी के साथ इनको आयोजनों के संदर्भ में विस्तार से जानकारी दी गई।

प्रदेश के खेल एवं युवा कल्याण विभाग द्वारा राजधानी में चलाए जा रहे इस प्रशिक्षण शिविर के तीसरे चरण में शामिल होने के लिए १२३ क्रीड़ाश्री आए हैं। इनको आज यहां पर निंगराज रेड्डी ने गणित के हिसाब से बहुत जल्द कैसे मैदान बनाए जा सकते हैं इसकी जानकारी दी। इसी के साथ इनको सुबह के सत्र में मास्टर ट्रेनर सुरेश कुमार हंस और प्रसाद सिंह ने वार्मअप स्टेटिंग और पुल डाऊन के बारे में पूरी जानकारी दी।
दोपहर के सत्र में वरिष्ठ खेल अधिकारी राजेन्द्र डेकाटे ने बताया कि आयोजन को सफल बनाने के लिए क्या-क्या जरूरी है। यहां यह बताना लाजिमी होगा कि सभी क्रीड़ाश्री को अपने-अपने गांवों में खेलों का आयोजन भी करवाया है। श्री डेकाटे ने इसको बताया कि किस तरह से आयोजन की तैयारी करनी चाहिए। शाम के सत्र में एनआईएस कोच सरिता कुजूर ने फुटबॉल के बारे में जानकारी दी।

2 टिप्‍पणियां:

हिन्दी में लिखें

खेलगढ़ Headline Animator

खेलगढ़ की चर्चा हिन्दुस्तान में